Khulasa-news


भुतहा बंगले ने राजेंद्र कुमार को बनाया था सुपरस्टार

rajendar kumar-minएंटरटेनमेंट खबरें सभी 

टैलेंट हो तो इंसान सब कुछ हासिल कर सकता है, लेकिन कई बार ये टैलेंट भी काम नहीं आता और फिर आपको किसी करिश्मे का इंतजार रहता है। कुछ ऐसा ही करिश्मा हुआ था जुबली कुमार यानि एक्टर राजेंद्र कुमार के साथ। राजेंद्र कुमार ने स्टारडम की जो ऊंचाइयां छूईं वो आज तक कोई नहीं छू पाया। आप जानते हैं कि इनकी सफलता की वजह एक भुतहा बंगला था? 20 जुलाई 1929 को जन्में राजेंद्र कुमार का आज जन्मदिन है, चलिए आपको इस मौके पर बताते हैं उनसे जुड़ा ये शानदार किस्सा।

ये उन दिनों की बात है जब राजेंद्र कुमार फिल्म इंडस्ट्री में कदम जमाने में लगे हुए थे। वो कई फिल्में कर चुके थे लेकिन सफलता हाथ नहीं लग पा रही थी वहीं दूसरी ओर वो अपने परिवार के लिए बड़े घर की तलाश भी कर रहे थे। तभी किसी ने उन्हें कार्टर रोड पर स्थित एक बंगले के बारे में बताया। राजेंद्र कुमार को वो बंगला पसंद आ गया लेकिन उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि वो उस बंगले को खरीद पाते। वो और परेशान हो गए, लेकिन कहते हैं कि भगवान एक रास्ता बंद करता है तो दूसरा खोल भी देता है। राजेंद्र कुमार के साथ भी यही हुआ।

उम्मीद की एक किरण

निर्देशक बी आर चोपड़ा के रूप में उन्हें उम्मीद की एक किरण नजर आई। बी आर चोपड़ा ने राजेंद्र कुमार को एक फिल्म के लिए एडवांस में पैसे दे दिए और साथ में दो फिल्मों का ऑफर भी। उन पैसों से राजेंद्र कुमार ने कार्टर रोड वाला वो बंगला खरीद लिया। सभी ने राजेंद्र को वो बंगला खरीदने के लिए मना किया और चेतावनी भी दी। उस बंगले के बारे में कहा जाता था कि वो भुतहा है और वहां भूतों का निवास है, लेकिन राजेंद्र नहीं माने। ना जाने क्यों उनका मन उस बंगले से हट ही नहीं रहा था।

कई लोगों ने राजेंद्र को चेताया कि ये बंगला उनके लिए अच्छा नहीं यहां से आवाजें भी आती हैं औऱ कई लोग यहां से भाग चुके है लेकिन राजेंद्र कुमार मानों उस बंगले के मोह में इतना फंस चुके थे कि उन्होंने किसी की नहीं सुनी। उसके बाद जो हुआ वो तो इतिहास ही बन गया। इस बंगले में रहने के दौरान राजेंद्र कुमार के करियर में करिश्माई उछाल आया और वो एक बाद एक कई हिट फिल्में देते गए।

सिनेमाघरों में 25 हफ्तों तक चलती रहतीं फिल्में

राजेंद्र कुमार का स्टारडम ऐसा बढ़ा कि उनकी फिल्में सिनेमाघरों में 25 हफ्तों तक लगातार चलती रहतीं और रिकॉर्ड बनातीं। इसी की वजह से राजेंद्र कुमार का नाम जुबली कुमार पड़ गया। राजेंद्र कुमार उस वक्त सबसे अमीर स्टार बन गए थे।

हालांकि कुछ वक्त बाद ही राजेंद्र कुमार के दौड़ते करियर में अचानक ही ब्रेक लग गया और उन्होंने सपोर्टिंग रोल की तरफ अपना रुख कर लिया। आगे कुछ ऐसे हालात बने कि राजेंद्र कुमार कुमार को अपना वो बंगला बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा।

उस वक्त राजेश खन्ना भी फिल्मों में कदम जमाने में लगे थे। राजेश खन्ना ने सोचा कि अगर उन्होंने राजेंद्र कुमार वाला बंगला खरीद लिया तो हो सकता है कि राजेंद्र कुमार के स्टारडम की कृपा उन पर भी हो जाए और राजेंद्र कुमार की तरह वो भी बड़े स्टार बन जाएं। और आप यकीन नहीं करेंगे.. हुआ भी यही। 12 जुलाई 1999 को राजेंद्र कुमार ने अंतिम सांस ली।

अधिक जानकारी के लिए खुलासा न्यूज पर करें क्लिक

Facebook Comments

Related posts