Khulasa-news


पंजाब पुलिस और ग्रामीणों के बीच फायरिंग-पत्थरबाजी,नशा तस्कर की मौत

punjabक्राइम खबरें पंजाब सभी 

पंजाब के बठिंडा से लगते हरियाणा के सिरसा के गांव देसूजोधा में बुधवार को पुलिस और ग्रामीणों के बीच पत्थरबाजी और गोलीबारी हुई. बता दें कि इस दौरान भिड़त में आरोपी के चाचा की जान चली गई. साथ ही चार पुलिसकर्मी वाले भी गंभीर रूप से घायल हो गए. नशा तस्करी के मामले में आरोपी कुलविंदर सिंह को पकड़ने गई पंजाब पुलिस की सीआईए वन की टीम पर गांव के लोगों ने पत्थरबाजी कर दी.

इसमें एक एएसआई समेत चार पुलिस कर्मी घायल हो गए. वहीं पुलिस की जवाबी कारवाई में आरोपी के चाचा नशा तस्कर जग्गा सिंह की गोली लगने से मौत हो गई. घायल पुलिस कर्मियों को मैक्स अस्पताल बठिंडा में दाखिल करवाया गया. यहां एसएसपी नानक सिंह के अलावा पुलिस फोर्स तैनात रही.

नशा तस्करों को पकड़ने गई थी पुलिस टीम

जानकारी के अनुसार, सीआईए स्टाफ वन की टीम एएसआई हरजीवन सिंह की अगुवाई में नशा तस्करी मामले में लंबित कुलविंदर सिंह को गिरफ्तार करने के लिए बुधवार को सुबह करीब छह बजे गांव देसूजोधा पहुंची थी. जब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया तो गांव के लोगों ने विरोध जताते हुए पत्थरबाजी शुरू कर दी.

कुछ पुलिस कर्मियों के गले में रस्सियां डालकर उन्हें घसीटा भी गया. पुलिस टीम ने अपने बचाव में फायरिंग की तो आरोपी कुलविंदर के चाचा नशा तस्कर जग्गा सिंह को एक गोली लग गई. इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. पुलिस की ओर से की जा रही फायरिंग के जवाब में गांव के लोगों ने भी फायरिंग शुरू कर दी, जिस में एक एएसआई समेत कांस्टेबल कमलजीत सिंह और दो अन्य कांस्टेबल घायल हो गए.

वहीं उक्त सभी घायलों को उपचार के लिए बठिंडा के मैक्स अस्पताल में लाया गया. कांस्टेबल कमलजीत सिंह की हालत गंभीर बनी हुई है. घटना की सूचना मिलने पर गांव देसूजोधा में भारी पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया और डीएसपी एच राकेश भी पुलिस पार्टी समेत मौके पर पहुंचे.

दूसरी तरफ बठिंडा के मैक्स अस्पताल में एसएसपी नानक सिंह घायल पुलिस कर्मियों से बातचीत करने पहुंचे. अस्पताल परिसर को पुलिस छावनी में तबदील कर दिया गया है. हालांकि बठिंडा पुलिस की ओर से अभी तक किसी भी तरह की कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है.

पुलिस कर्मियों के बयान दर्ज करने के लिए हरियाणा पुलिस की टीम

गांववासियों की ओर से किए गए पत्थराव के बाद महिला कांस्टेबल समेत तीन पुलिस कर्मी अपनी जान बचाने के लिए एक कमरे में छिप गए. लेकिन गांववासियों ने कमरे के दरवाजे तोड़कर दोनों को डंडे एवं अन्य तेजधार हथियार से पीटने लगे.

महिला कांस्टेबल एवं कांस्टेबल गांववासियों के आगे हाथ जोड़ते रहे और उन्हें न मारने की दुहाई देते रहे, लेकिन उन्होंने एक नहीं सुनी. वे कांस्टेबल को कमरे से बाहर ले गए और उसकी पिटाई की. फिर दूसरे कांस्टेबल जगमीत सिंह का हाथ एक कपड़े से बांधकर उसे सड़क पर घसीटते हुए ले गए. कुछ लोग उसे डंडे से पीटते नजर आ रहे है.

इस पूरे घटनाक्रम की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है. एक अन्य वीडियो में लाल रंग की टीशर्ट पहने एक युवक बंदूक से लगातार घर के अंदर फायरिंग कर रहा. वीडियो में दिखाई दे रहा कि उक्त युवक ने एक के बाद एक नौ फायर किए. लेकिन गांव वालों ने युवक के विरोध में पत्थरबाजी शुरू कर दी और गोलियां चला रहे युवक समेत पुलिस कर्मियों को बुरी तरह पीटा.

डबवाली के डीएसपी कुलदीप बैनीवाल का कहना था कि पुलिस मृतक जग्गा सिंह के परिवारक सदस्यों के बयान दर्ज कर रही है और दूसरी तरफ घायल पुलिस कर्मियों के बयान दर्ज करने के लिए हरियाणा पुलिस की टीम बठिंडा जा रही है.

Related posts