Khulasa-news


सुपर 30 रिव्यू: ऋतिक ने आम इंसान बनकर जीता दिल

super 30एंटरटेनमेंट खबरें सभी 

बिहार के जीनियस गणितज्ञ और शिक्षक आनंद कुमार की बायोपिक ‘सुपर 30’ रिलीज हो गई है। फिल्म में ऋतिक रोशन ने आनंद कुमार का किरदार अदा किया है। आप अगर फिल्म देखने का प्लान कर रहे हैं तो पहले पढ़ें ये फिल्म आखिर है कैसी।

फिल्म की कहानी

बता दें कि फिल्म की शुरूआत होती है फ्लैशबैक के साथ। एक होनहार स्टूडेंट आनंद का एडमिशन क्रैबिंज यूनिवर्सिटी में होता है लेकिन आर्थिक स्थिति खराब होने के चलते उसका एडमिशन नहीं हो पाता है। आनंद के पिता की मौत हो जाती है और उन्हें अपनी मां के हाथों के बने पापड़ बेचकर घर चलाना पड़ता है।

इसके बाद आनंद को लल्लन सिंह का साथ मिलता है। लल्लन सिंह का किरदार आदित्य श्रीवास्तव ने निभाया है। लल्लन आईआईटी की तैयारी कर रहे बच्चों के लिए एक कोचिंग सेंटर चलाता है और आनंद को बतौर टीचर अपॉइट कर लेता है। इसके बाद आनंद की लाइफ में बदलाव आ जाते हैं, लेकिन फिर उन्हें ये एहसास होता है कि उनके जैसे कई बच्चे हैं जो आर्थिक तंगी की वजह से अपना अच्छा भविष्य नहीं बना पाते। इसके बाद आनंद वो कोचिंग सेंटर छोड़कर गरीब बच्चों के लिए अलग से फ्री कोचिंग सेंटर खोलते हैं।

बिहार के मैथेमेटिशियन आनंद कुमार के जीवन से प्रेरित ‘सुपर 30’ शुक्रवार को रिलीज हो गई है। बुधवार 10 जुलाई को मुंबई में फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई थी। फिल्म देखने काफी सेलेब्स आए थे।

फिल्म रिव्यू

विकास बहल ने आनंद कुमार की जिंदगी के हर हिस्से को काफी अच्छे से निभाया है। फिल्म आपको जोड़कर रखती है। हालांकि शुरुआत में ऋतिक का लहजा और उनका लुक थोड़ा अटपटा जरूर लग सकता है। ऋतिक को ऐसे डीग्रैम लुक में पहली बार देखा गया है। मृणाल ठाकुर ने कम सीन होने के बावजूद अपना अच्छा काम दिखाया। फिल्म के कुछ डायलॉग्स को लोगों ने काफी पसंद किया है। ‘राजा का बेटा राजा नहीं बनेगा, वो बनेगा जो हकदार होगा’ डायलॉग पर तो खूब तालियां बजीं।

अधिक जानकारी के लिए खुलासा न्यूज पर करें क्लिक

Related posts

2 Thoughts to “सुपर 30 रिव्यू: ऋतिक ने आम इंसान बनकर जीता दिल”

  1. […] के मुताबिक, मुंबई और टायर-2 सीटीज से सुपर 30 की सबसे ज्यादा कमाई हो रही है. वहीं […]

Comments are closed.