Khulasa-news


अनुच्छेद 370 पर दुनिया के सामने गिड़गिड़ाया पाकिस्तान

imran-minखबरें राजनीति सभी 

जम्मू और कश्मीर के लिए विशेष प्रावधानों वाले संविधान के अनुच्छेद 370 और 35-ए के खात्मे के बाद बाद पाकिस्तान सरकार की बौखलाहट सामने आ गई है। पाकिस्तान कश्मीर पर किए गए भारत के एक्शन को जहां वैश्विक मंच पर खींचना चाहता है, वहीं भारत का रुख साफ है कि कश्मीर हमारा आंतरिक मामला है। जिसके संबंध में कानून बनाने का हक भारत सरकार को है। भारत, कश्मीर पर बनाई गई किसी भी नीति में बाहरी हस्तक्षेप को नहीं मानने वाला है।

संसद से लेकर देश तक में कश्मीर पर भारत

पाकिस्तान के संसद से लेकर देश तक में कश्मीर पर भारत के रुख से बेचैनी है। ऐसे में पाकिस्तान पूरी दुनिया में मदद की गुहार लगा रहा है। पाकिस्तान की इस गुहार पर अमेरिका ने पाकिस्तान को हिदायत दी है कि पाकिस्तान भारत के खिलाफ कोई आक्रमक रुख नहीं अपनाए।

अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा है कि पाकिस्तान अपनी जमीन का इस्तेमाल भारत में आतंकवाद को फैलाने के लिए नहीं करे। घुसपैठ पर भी पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए अमेरिका ने कहा कि पाकिस्तान भारत की सीमा से सटे लाइन ऑफ कंट्रोल की तरफ घुसपैठ नहीं करे। पाकिस्तान को अमेरिका ने हिदायत दी है कि अपने देश में पल रहे आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान ठीक ढंग से कार्रवाई करे और पाकिस्तानी जमीन पर पल रहे आतंकवादी ठिकानों पर कड़ा एक्शन ले।

हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन बॉब मेनेंडेज

अमेरिका के हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन बॉब मेनेंडेज की तरफ से यह बयान जारी किया है। अमेरिका ने भारत से अपील है कि जम्मू-कश्मीर में भारत अपने नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करे और पारदर्शिता बरते। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, उससे उम्मीद की जाती है कि वह अपने नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करेगा।

गौरतलब है कि भारत ने सुरक्षा के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त सैन्य बलों की तैनाती की है। अनुच्छेद 370 पर ऐतिहासिक फैसले से पहले वहां इंटरनेट सुविधाएं और फोन सेवाएं बंद कर दी गई थीं। इससे पहले वाशिंगटन के सांसदों ने पाकिस्तान से अपील की थी कि पाकिस्तान हर हाल में सीमा पर शांति बरते, अन्यथा मामला बिगड़ सकता है।

अधिक जानकारी के लिए खुलासा न्यूज पर करें क्लिक

Facebook Comments

Related posts