Khulasa-news


इस रक्षाबंधन पर बहन को दें ये स्पेशल तोहफा

rakshabandhan-minखबरें लाइफ स्टाइल सभी 

हमारे देश में रक्षा बंधन का त्‍योहार काफी खास है। इस दिन बहन अपने भाई को राखी बांधती है। वहीं भाई इसके एवज में उसे चॉकलेट, कपड़े या स्‍मार्टफोन जैसे गिफ्ट देता है। ये गिफ्ट बहन के चेहरे पर खुशी ला देते हैं, लेकिन इस मुस्‍कान को आजीवन बरकरार रखने के लिए एक भाई को फाइनेंशियल सिक्युरिटी से जुड़े गिफ्ट देने चाहिए। आज हम आपको ऐसी ही गिफ्ट के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके जरिए आप बहन की भविष्‍य को सिक्‍योर कर सकते हैं।

हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

आप अपनी बहन के लिए एक हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी को ले सकते हैं। ये पॉलिसी बहन के स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़े हर संकट को दूर करने में मदद करेगी।

एसआईपी

बहन के भविष्‍य को सुरक्षित रखने के लिए आप किसी म्युचुअल फंड में सिस्‍टेमेटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (एसआईपी) खोल सकते हैं। एसआईपी में न‍िवेश करना वाकई अच्‍छा व‍िकल्‍प है। एसआईपी में छोटी मात्रा में एक निश्चित रकम तिमाही/मासिक आधार पर निवेश करने की सुविधा मिलती है। इसके साथ ही आगे इस निवेश को बढ़ाया जा सकता है। इस निवेश से बहन के भविष्‍य के एक बड़े गोल को पूरा किया जा सकता है।

गोल्‍ड

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्‍कीम के तहत आप अपनी बहन के लिए गोल्‍ड खरीद सकते हैं। इस स्‍कीम में सोना खरीदकर घर में नहीं रखा जाता है बल्कि बॉन्‍ड में निवेश के तौर पर इस्‍तेमाल करना होता है। बॉन्‍ड आधारित सोने की कीमत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से तय होती है। बता दें कि कोई भी व्यक्ति एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 500 ग्राम सोने का बॉन्ड खरीद सकता है।

एफडी

इस रक्षा बंधन आप अपनी बहन के लिए एक निश्चित राशि का फिक्स्ड डिपॉजिट करा सकते हैं। वर्तमान में एफडी पर 6.5 से 7 फीसदी तक का ब्याज मिल रहा है। इससे भव‍िष्य में आपके बहन की आर्थिक परेशानियों को दूर करने में मदद मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए खुलासा न्यूज पर करें क्लिक

Facebook Comments

Related posts

One Thought to “इस रक्षाबंधन पर बहन को दें ये स्पेशल तोहफा”

  1. […] रक्षा बंधन के दिन पुरोहित भी अपने यजमानों को दाहिने हाथ में रक्षा सूत्र बांधते हैं. मान्यता है कि श्रावण पूर्णिमा के दिन श्रवण नक्षत्र हो, तो वह बहुत फलदायी होता है. पहले के समय में ऋषि-मुनि श्रावण पूर्णिमा के दिन अपने शिष्यों का उपाकर्म कराकर उन्हें शिक्षा देना प्रारंभ करते थे. […]

Comments are closed.